भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसंत तो आया है पर / लावण्या शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल सुबह सुबह, अमुवा के पेड पर,
एक कोयल - फुसफुसाई !
हमने कहा, " अरे ! यह क्या ?
आपकी सुरीली तान कहाँ गई ? "
तब लँबी साँस लेकर वह बोली,
" पर्यावरण का प्रदुषण देखो -
मेरी आवाज़ बैठ गई है ! !! "
सच है, सारा आकाश धुँआ धुँआ,
मिल से उठता काला बादल,
सडकोँ पर अनवरत यातायात,
वसँत तो आया है पर .....
कौन सुनना चाहता है, कूक ?