भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसंत / आलोक श्रीवास्तव-२

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
एक कोयल गाती है
टीस भरा एक गीत
फिर
दूर अमराईयों में कहीं
उड़ कर खो जाती है
मैं विह्वल हो कर खोजता हूँ
उस कोयल को
पूछता हूं वृक्षों से
शाखों से
पर
कोयल नहीं मिलती फिर कहीं

कोयल बार बार आती है
गाने वही गीत
कोयल
हर बार
उड़ कर खो जाती है …