भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

वसन्त के दिन हैं / नवल शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वसन्त के दिन हैं
रास्ते से चलता हूँ
एक पत्ती गिरती हुई छूती है
कोंपलों की तरह निकलते हैं बच्चे
मैं बहुत सुबह जाग पड़ता हूँ
जैसे मौसम से निकला हूँ
और सबको ढूंढ़ता हूँ।

इतना हलका और
इतना भारी हो गया हूँ
कि हँस पड़ता हूँ
उदासी से निकल
करूणा में उतरा रहा हूँ
चल रहा हूँ मैं
मैं ठहर नहीं पा रहा हूँ।