भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वही एक / पारुल पुखराज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्पर्श कर
अधर
जिसके

उड़ गए
अनगिन
भ्रमर

वही
एक

अप्रतिम

उसी
पुष्प का मुख

पवित्र