भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वही चेहरा पुराना चाहिए था / कुसुम ख़ुशबू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वही चेहरा पुराना चाहिए था
मुझे गुज़रा ज़माना चाहिए था

मैं नाहक डर रही थी आइनों से
मैं पत्थर हूं, बताना चाहिए था

निहायत पाक है मेरी महब्बत
तुम्हें तो सर झुकाना चाहिए था

ग़ज़ल हम भी मुकम्मल कर ही लेते
कोई मौसम सुहाना चाहिए था

बिछड़ कर भी नहीं बिखरी हूं ख़ुशबू
मुझे तो टूट जाना चाहिए था