भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वही मुझको नज़रअंदाज़ करते हैं / सुभाष पाठक 'ज़िया'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वही हमको नज़र अंदाज़ करते हैं
जो कहते थे कि तुम पर नाज़ करते हैं

दुआ है ख़ैर हो अंजाम इस दिल का
कि अब हम इश्क़ का आग़ाज़ करते हैं

सुनो तन्हाइयों ज़ाहिर न करना तुम
कि अब से हम तुम्हें हमराज़ करते हैं

वो लम्हे ख़ामुशी मंसूब है जिनसे
वही दिल में बहुत आवाज़ करते हैं

हमारे पर कतरने से न होगा कुछ
हमारे हौसले परवाज़ करते हैं

भरोसा उठ गया है ऐ'ज़िया'सबसे
सो अब हम ख़ुद को ही दमसाज़ करते हैं