भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वह गीत सुनाना है! / राधेश्याम ‘प्रवासी’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिसके स्वर, अम्बर पर
युग-युग तक गूँजते रहें,
यह गीत सुनाना है!

जिसकी लय, बने मलय
प्यार भरा वह मानवता का,
स्रोत बहाना है।

जन-जन में, तन-तन में
देश प्रेम, सोये अतीत का,
शौर्य जगाना है।

हृदय मिले, कमल खिलें,
पाहन उर कर द्रवित उठें,
यह दर्द उठाना है!

उन्मन मन, यह जीवन
जहाँ शान्ति पा जाय,
यही निर्माण बनाना है!