भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

वाकी वळेण नद्दी बहे म्हारी सई हो / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

वाकी वळेण नद्दी बहे म्हारी सई हो,
सेळा जामुण की रे छाया।।
व्हाँ रे बालुड़ो पाती तोड़ऽ
रनुबाई डुबी-डुबी न्हावऽ।
न्हावतज् न्हावतज् धणियेरजी नऽ देख्यो,
कसी पत दीसो हो जवाब।।
हाथ जोड़ी नऽ सीस नवां म्हारी सई हो,
नैणां सी दीसां जवाब।।