भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वादे तो बस वादे हैं / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वादे तो बस वादे हैं।
दीगर मगर इरादे हैं।।

साँसें तो हैं गिनती की,
दुनिया सिर पर लादे हैं।।

काली करतूतें तो क्या?
झक्क सफेद लबादे हैं।।

जनता के शासन में भी,
शाह और शहजादे हैं।।

रिश्ते-नाते, प्यार-वफा,
सबके अलग तगादे हैं।।

अब वो वाली बात कहाँ,
खत भी आते सादे हैं।।

कहने को आजाद हुए,
हम प्यादे थे, प्यादे हैं।।