भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वार्ता:नागार्जुन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नागार्जुन मेघ बजे

धिन-धिन धा धमक-धमक मेघ बजे दामिनि यह गयी दमक मेघ बजे दादुर का कण्ठ खुला मेघ बजे धरती का ह्रदय धुला मेघ बजे पंक बना हरिचन्दन मेघ बजे हल्का है अभिनन्दन मेघ बजे धिन-धिन-धा...

१९६४