भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वा मेरा दीदा ए बीना है तो / ज़िया फतेहाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वा मेरा दीदा-ए बीना है तो ।
मैंने दुनिया तुझे देखा है तो ।

इक नई कहकशाँ का मंज़र,
मैंने पलकों पे सजाया है तो ।

आईना देख के मालूम हुआ,
कोई दीवाना भी मुझ-सा है तो ।

पा बा जौलाँ रहे क़तरा-क़तरा,
लम्हे-लम्हे का तकाज़ा है तो ।

कई सदियों से जुड़ा हूँ अब तक,
मेरा मैं टूट के बिखरा है तो ।

अक्स ही अक्स हैं लेकिन हर अक्स
आईनाख़ाने में तनहा है तो ।

ऐ ’ज़िया’ तू भी किसी का हो जा,
कोई दुनिया में किसी का है तो ।