भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विचार / कृष्ण प्रधान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उज्यालो हुँ
रातले ननाप्नू
मेरा दिनहरू
आकाश हुँ
नखोज्नू फैलावट
भूगोलमा
चेतना हुँ
नछाम्नू मलाई
खोँगीमा ।

हिँडाइ हुँ
नरोक्नू पैताला
थकानमा
गतिमा गति हुँ
हिलो नछ्याप्नू
उठानमा
सृष्टि हुँ
 कैद नगर्नू
मेरो रचना ।

आकाशको सीमा छैन
क्षितिजले
ननाप्नू दृष्टि
विचार हुँ
कैद नगर्नू
पर्खालले
म आँधीमा
आँधी हुँ
गतिमा गति ।