भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विदेश / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रहियो तुम जिस देश में पलियो नृप की नीति।
चलियो अपने धर्म पर सब से रखियो प्रीति।।
सब से रखियो प्रीति बचन मीठे उच्‍चरियो।
द्यूत सुरा छल कपट तज दुर्जन संग न करियो।
कटैं कोटि बाधा अमित तौ सुख से तुम रहियो।।