भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विद्यापतिक चटनी / पूर्णेन्दु चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शिक्षित लोकसभ
आदिवासीक सुधंगपनीक
फायदा उठा क’
करैत रहल ओकर शोषण
मुदा, ओ सभ नहि छोड़लक
अपन गीत
अपन संस्कार
अपन भाखा।
मैथिलमे
जेना-जेना होइत गेल
शिक्षाक प्रसार
तेना-तेना लजाए लागल
अपन गीतसँ
अपन सस्कारसँ
अपन भाखासँ
मुँहक स्वाद बदल’ लेल
खा लैत अछि वर्षमे एक बेर
विद्यापतिक चटनी।