भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विरासत / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिरवी पड़ा है खेत
झूमर सेठ का रुक्का
बहन मालती के पीले-हाथ
करने हैं शेष
पड़ोस से मुकदमा
और अनगिनत
आडी-टेडी जिम्मेदारियां
सौंप गए हैं मेरे बाबा ।

याद आती है
बचपन की
वे दिन जब इसी आंगन में
होता था खेलना-कूदना और खिलखिलाना ।
 
बाबा का अपरिमित स्नेह
और बड़ी मां का दुलार
जो मिला इस आंगन में
कब भूला हूं मैं !

अब इस घर में
कहीं दब गई हैं-
गाय-बछड़ों की आवाजें
सुनता हूं मैं
मिल का बेसुरा भोंपू ।
दूध-दही और घी
शौक बन चुके है-
दिल्ली की बड़ी बस्ती के
और मेरे लिए सपना ।

मोहन बाबा के हुक्के की गुड़गुड़ाहट
और रुघे काका से बतियाना उनका
अब कहां सुन सकूंगा इस घर में
जहां सुनाई देती है अब स्टोव की सूंसाट
बाजरे की रोटी की सुगंध
छीन ली किसी ने आंगन से ।

पुस्तैनी घर यह मेरा
बहुत सालों से जो था अपना
बिना उन के लगता है-
बहुत ही पराया ।


अनुवाद : नीरज दइया