भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

विवाह पूर्व बेटी का वर विचार / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चौका बठी बारी दुल्हिन ओ
बाबुल से अरज करे।
अच्छा घर दे जो बाबुल जी
चान्दी-सोन्ना हम पहिन्हे।।


बाबुल-

बेटी लिल्लोड़ी घोड़ी पलानी
सोन्ना-चाँदी हमऽ लेनऽ चल्या
बाटऽ मऽ मिल गया साहिबन रे
साजन तुम कहाँ रे चल्या।

बाबुल-

हम घरऽ कन्या कुँआरी
हम सोन्ना-चाँदी लेनऽ चल्या।


वर पक्ष के जवाब -

फिर जाओ साजन, फिर जाओ
सोन्ना-चाँदी हम लाहीं।
तुम हमखऽ सिरप बेटी देनू
हम तुम्ह खऽ सोन्ना-चाँदी दीहीं
फिर जाओ साजन, फिर जाओ
सोना चाँदी हमऽ दीहीं।