भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=धीरेन्द्र
|संग्रह=करूणा भरल ई गीत हम्मर / धीरेन्द्र
}}
{{KKCatGeet}}
{{KKCatMaithiliRachna}}
<poem>
कानय मोन आ हँसय ठोर ई,
संगिनि जानि गेलहुँ अछि हम।
अयला बहुतो अपन अहाँकें
आइ बनल छयि आन,
के अछि कतबा दिनकेर संगी
से नहि हमरा भान।
तैं चलितहिं रहब निरन्तर
ई तँ ठानि लेलहुँ अछि हम।
लक्ष्य दूर अछि राति अन्हरिया
ठामक नहि अछि ज्ञान,
मोनक गप्प कहू ककरासँ
आर न केओ अछि आन।
जिनगीमे आराम लिखल नहि,
ई तँ मानि गेलहुँ अछि हम।
</poem>
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits