भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=धीरेन्द्र
|संग्रह=करूणा भरल ई गीत हम्मर / धीरेन्द्र
}}
{{KKCatGeet}}
{{KKCatMaithiliRachna}}
<poem>
तापित हृदय-तल प्रखर अग्नि बोधो,
शापित जे यक्षक मनक भार हम्मरं
तपन ताप तापित सपत सभ हमर ई
भरोसक बीया वपन कए रहल अछि।
आशक लताकें जियाओल ओना अछि,
लागए मुदा ताश-घरकेर खेले।
खेले जँ सभटा तँ खेले रहओ ई,
दिनक दृश्य आबओ वा कारी निशाकेर
मुदा मीत हमहूँ छी जिद्दी खेलाड़ी
दाँव अन्तिम जे फेकी ओ जीते रहल अछि,
चलू ज ई जीवन लड़िते ई बीतओ,
पराश्रित अमरतासँ मरणो श्रेयष्कर।
जीयब ज जीयब धधरा भए जीयब,
धुँआइत जीवन रहल नहि अपेक्षितं
</poem>
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits