भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=धीरेन्द्र
|संग्रह=करूणा भरल ई गीत हम्मर / धीरेन्द्र
}}
{{KKCatGeet}}
{{KKCatMaithiliRachna}}
<poem>
कठिन अछि ने कम ई हाटो उसारब।
पसारल ओना लऽ बहुत स्वप्न मनमे,
व्यष्टिक जो चिन्तन बनल धन समष्टिक।
चलल हाट अछि ई आ बिक्री ने कम अछि
नामी ने कम ई खिरल नाम सागरो।
नामे एकर भेल जेना आइ दुश्मन,
अकारण बनल शत्रु एकरा बिगाड़य।
हटाबय जँ चाही मानय ने लोके,
सिनेहक ई फानी बनल अछि समस्या।
बनायबकोनो वस्तु ओना नहि कठिन कम,
कठिन अछि ने कम ई रंगलकें धोखारब।
कठिन अछि ने कम ई हाटो उसारब।
</poem>
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits