भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=धीरेन्द्र
|संग्रह=करूणा भरल ई गीत हम्मर / धीरेन्द्र
}}
{{KKCatGeet}}
{{KKCatMaithiliRachna}}
<poem>
घुरऽ हे घूरऽ संगी ! मिथिलाक पूत तोंही !!
बजबै छ माए तोहर मिथिला !
दोसर भाषामे संगी गीत तोहर गमकइ
तोहर भूषामे संगी रूप तोहर चमकइ।
तोहर इजोत बले दुनियाँ उद्भासित।
घरमे पसरल अन्हार।
आबऽ-आबऽ हे संगी, नव-घर उठाबी।
सड़ल-साड़ल ई खोपड़ी खसाबी।
करीरे भवन तैयार।
सहसन न होइ छै माइकेर वेदन।
हिया के रे शालइ जननीक रोदनं
पुरूवमे देखऽ उगलइ सुरूजदेब,
पछिममे उगलइ चान।
सबतरि तोरे दीप्ति देखाइछ
दुनियाँ भेल उजयार।
कानि रहल अछि मनकेर कोइली
देखि-देखि ध्रुप्प अन्हार।
सुनऽ सुनऽ हे संगी।
मिथिलाक पूत तोंही।
कहबइ छ माए तोहर शिथिला।
हिचुकि-हिचुकिकें
कानिकें खीझिकें
बजबै छ माए तोहर मिथिला।
</poem>
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits