भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=धीरेन्द्र
|संग्रह=करूणा भरल ई गीत हम्मर / धीरेन्द्र
}}
{{KKCatGeet}}
{{KKCatMaithiliRachna}}
<poem>
आएल मास हेमन्त आ कि गाम पड़ि गेल मोन यौ।
करू की हम नहि फुरै अछि, अछि उपाये कोन यौ।
कतहु कटनी, कतहु झटनी, कतहु दौनिक सोर यौ।
नीड़-हीन विहंग जेकाँ आँखि पूरित नोर यौ।

अरे ! आएल मास हेमन्त
मोनक विहग उड़ल अकाशमे,
दूर अछि जइ भूमिसँ ओ
तकर ताकक आशमे।
परिस्थितिकेर बोध होइतहि मोन भए गेल घोर यौ।
दूर भए गेल हमर हेतुक अपन जननीक कोर यौ।
</poem>
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits