भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ओ, प्रिय ऋतुराज! किन्तु धीरे से आना, <br>
यह है शोक -स्थान यहाँ मत शोर मचाना। <br><br>
वायु चले, पर मंद चाल से उसे चलाना, <br>
कोमल बालक मरे यहाँ गोली खा कर, <br>
कलियाँ उनके लेये लिये गिराना थोड़ी ला कर। <br><br>
आशाओं से भरे हृदय भी छिन्न हुए हैं, <br>