भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
|संग्रह=कला और बूढ़ा चांद / सुमित्रानंदन पंत
}}
{{KKCatKavita}}
<poem>
शरद के
मेरे भीतर
बरस पड़ता है !
</poem>
Delete, KKSahayogi, Mover, Protect, Reupload, Uploader
18,779
edits