भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

व्यर्थ नहीं हूँ मैं / कविता किरण

No change in size, 13:53, 31 अक्टूबर 2009
तभी तो तुम कर पाते हो गर्व अपने पुरूष होने पर
मैं झुकती हूँ!
तभी तो ऊंचा ऊँचा उठ पाता है
तुम्हारे अंहकार का आकाश।
Delete, Mover, Protect, Reupload, Uploader
50,064
edits