भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बकवास तंत्र / मनोज श्रीवास्तव

1,049 bytes added, 10:41, 17 सितम्बर 2010
''' बकवास तंत्र '''
 
ज़ाहिर है
इस बकवास तंत्र में
घुट-घुट कर जिंदा रहना
नरभक्षियों के मुंह पर
एक जोरदार तमाचा है
 
यह जो व्यवस्था है
उसमें आस्था रखना
अज़गर के मुंह में
हंसते-हंसते जानबूझकर
खुद प्रवेश कर जाना है
 
यह तंत्र भी क्या है
स्वार्थ की कैंची से कटते
निर्दोष-निरीह कपड़े जैसा है
जो अपने मुताबिक़ उसे
खद्दर के कुरते-पाजामें में
ढाल देती है
जिन्हें हमारे शहंशाह
पहनते हैं रोब से
और गलीचेदार राजसभाओं में
मंडराते हैं.