भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विश्व सुंदरियां / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसमान के
जंगल में
कैक्टस
पसार रहा पांव

सिर्फ एक बार
ओढ़ते हैं ये
फूलों का लिबास

तितलियां
शायद पीड़ित थीं
मौसमी जुकाम से
तभी छली गईं

हर कांटे पर
बिंध गई तितली
मगर
अमर हो गए
उनके पंख
वे नहीं

साक्षी हैं
वे चट्टानें
जो हुआ करती थीं
विश्व सुंदरियां
अभी तक हैं
रक्त स्नाता

जब भी होती है
ऐसी मृत्यु
दिखते हैं
कुछ लोग
लग जाता है
एक और शिलालेख