भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विषाद - 4 / विजेंद्र एस विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह कुत्ते की तरह ललचाता हुआ
मेरे नजदीक आता है..
चाटने लगता है मुझे...
हिम्मत करके मैं उसे डांटता हूँ..
वह एक पल के लिए भागता है..
फिर धीरे धीरे वापस लौटता है..
उस दिन भी आया
पर मैंने उस पर विजय पा ली...
शायद मुझे रुकना आ गया...