भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विस्मृत मित्र के लिए कुछ पंक्तियाँ-4 / शुभा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मनुष्यता को खारिज करते हुए हम अब
स्त्री और पुरुष बनना चाहते हैं
कभी स्त्री-पुरुष को खारिज करके
बने थे मनुष्य भी
हम ऐसे मनुष्य नहीं बन सकते जो स्त्री हो न पुरुष

तो मनुष्यों में ही होते हैं स्त्री-पुरुष
कहते हैं एक कोमल है दूसरा कठोर
कहते हैं एक दयालु है दूसरा दम्भी
कहते हैं एक ममतालु है दूसरा निर्मोही

हम जानते हैं
जो कहने की बातें हैं
तो हम मिलकर असलियत सिद्ध क्यों नहीं करते।