भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वेणी कचनार की / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झुकी कहीं फूलवती वेणी कचनार की
चौतरफ़ा फैल गई गंध नमस्कार की

आँगन-सा लीप गई
चंचल आकृतियाँ
मौसम ने अँजुरी भर
सौंपीं स्वीकृतियाँ
अपनापन घोल गई संध्या शनिवार की

छू-छू संजीवनी
हवाओं के झोंके
सोते से जगा गए
गीत धमनियों के
तन्द्रा-सी टूट गई अनबोले तार की