भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

वेदना को शब्द के परिधान पहनाने तो दो / हरेराम समीप

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वेदना को शब्द के परिधान पहनाने तो दो
ज़िंदगी को गीत में ढल कर जरा आने तो दो

वक्त की ठण्डक से शायद जम गई मन की नदी
देखना बदलेंगे मंज़र‚ धूप गर्माने तो दो

खोज ही लेंगे नया आकाश ये नन्हे परिंद
इन परिंदों को ज़रा तुम पंख फैलाने तो दो

ऐ अँधरो ! देख लेंगे हम तुम्हें भी कल सुबह
सूर्य को अपने सफर से लौट कर आने तो दो

मुद्दतों से सोच अपनी बंद कमरे में है क़ैद
खिड़कियाँ खोलो‚ ज़रा ताज़ा हवा आने तो दो

कब तलक डरते रहे हम‚ ये न हो‚ फिर वो न हो
जो भी होना है‚ उसे इस बार हो जाने तो दो