भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो नदी, उस नदी में बहती जलधारा / कपिल भारद्वाज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो नदी,
उस नदी में बहती जलधारा,
उस जलधारा में बहते जलकण,
पैदा करते हैं,
कितना मधुर संगीत ,
जब-जब टकराते हैं,
किसी सूखी चट्टान से !

छिपते सूरज की बेला में,
बहुत मन भाता है वो संगीत,
घूंट-घूंट पी रहा होता हूं,
उस कर्णप्रिय संगीत को,
उतार रहा होता हूं,
अपने ह्रदय में !

सच पूछो तो,
मुझे उसी संगीत का एहसास,
मेरी प्रेमिका की ‘ना’ में भी होता है,
जो, छिपते सूरज की हर बेला में,
मुझे सूखी चट्टान कर देती है !