भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो मेरे पास है क्या पास बुलाऊँ उसको / शहजाद अहमद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो मेरे पास है क्या पास बुलाऊँ उसको
दिल में रहता है कहाँ ढूंढने जाऊँ उसको

आज फिर पहली मुलाकात से आगाज़ करूँ
आज फिर दूर से ही देखकर आऊँ उसको

चलना चाहे तो रखे पाँव मेरे सीने पर
बैठना चाहे तो आँखों पे बिठाऊँ उसको

वो मुझे इतना सुबुक इतना सुबुक लगता है
कभी गिर जाये तो पलकों से उठाऊँ उसको

सुबुक=नाज़ुक