भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो रंज़िश में नहीं अब प्यार में है / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो रंज़िश में नहीं अब प्यार में है
मेरा दुश्मन नए किरदार में है

खुशी के साथ ग्लोबल आपदाएँ
भई खतरा तो हर व्यापार में है

यहांँ सब बदहवासी में खड़े हैं
ये ठहरी ज़िन्दगी रफ्तार में है

नहीं समझेगा कोई दर्द तेरा
तड़पना टूटना बेकार में है

कोई उम्मीद हो जिसमें, खबर वह
बताओ क्या किसी अख़बार में है

 हवा मँझधार में लाई है लेकिन
 अभी भी हौसला पतवार में है

 घरों में आज सूनापन है केवल
यहांँ रौनक तो बस बाज़ार में है