भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो शख़्स / आशा कुमार रस्तोगी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पल मेँ सदियों का, कोई यूँ हिसाब कर देगा,
मुझको बेताब, रुख़े-माहताब कर देगा।

ज़हन में अब भी हैं, ताज़ा, शरारतें उसकी,
अपनी हरकत से, मुझे दिल-ए-शाद कर देगा।

भूल बैठा हूँ, कई ग़लतियों को मैँ अपनी,
कुछ पशेमाँ हूँ, मुझे आबो-आब कर देगा।

नज़रे-दहराँ मेँ भले, वह है गुनहगार मगर,
दिखा के आइना, वह शर्मसार कर देगा।

अभी ताज़ा है ज़हन मेरे, तबस्सुम उसका,
सुना के दास्ताँ, वह दीदे-आब कर देगा।

राब्ते कितने सँजोये हैं, दौर-ए-फ़ुरक़त,
कितने रिश्तों को, पल में तार-तार कर देगा।

याद है अब भी मुझे, हुनरे-गुफ़्तगू उसका,
आँखों-आँखों मेँ ही, वो दिल की बात कह देगा।

भले है इन्तज़ार, सहरो-शब, मुझे उसका,
आके यकबारगी, वह बेज़ुबान कर देगा।

अश्क़े-सैलाबे-रवाँ-तूल-ए-हिजराँ "आशा" ,
मिल के इक शख़्स, मुझे लाजवाब कर देगा...!