भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

व्यक्ति बनाम तंत्र / अर्पण कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह बेहद कमजोर इंसान था
मगर कुछ परिस्थितियों के तहत
व्यवस्था उसके अनुकूल हो गई है
अब वह
सब पर शासन करना
चाहता है
मैं यह सब देख
और सोच रहा हूँ

उसे परास्त / चुप करने के लिए
पहले उसका तंत्र
दुर्बल करना होगा |