भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

व्यर्थ हँसी न उड़वायें / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 इक दिन घर में बनी योजना,
रसगुल्ले कुछ बनवायें|
फिर बैठक में हुआ फैसला,
कच्चा माल कहां पाएं|

 खोवा लल्लू की दुकान से,
शक्कर लाला के घर से|
करें निरीक्षण खुद पापाजी,
माल ठीक से तुलवायें|

 थोड़ी सी मेंदा औ काजू,
खुशबू वाले इत्र जरा|
किसी पड़ौसी के घर जाकर,
मम्मीजी खुद ही लायें|

 गैस है घर में पानी घर में,
बड़ी कढ़ाई है घर में,
प्रश्न था लेकिन रसगुल्ले अब ,
किसके द्वारा बनवायें|

 पापा बोले अखवारों में
विग्यापन हम देते हैं|
रसगूल्लों के सिद्धहस्त को,
अपने घर में बुलवायें|

 एक किलो निर्माण कराने,
में कितना खर्चा होगा|
सभी निवेदन करने वाले,
ठीक ठीक से बतलायें|

 सुनकर ये बातें मम्मी का,
पारा सौ के पार हुआ|
बोलीं चलते हैं बज़ार में,
चलकर रसगुल्ले लायें|

 बात वही अच्छी होती है,
जो यथार्थ में सच्ची हो|
शेख चिल्लियों जैसे बनकर,
व्यर्थ हँसी ना उड़वायें|