भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शइर जज़्बनि जा इशारा आहिनि / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शइर जज़्बनि जा इशारा आहिनि।
ज़ख्मी पूरनि जा तमाशा आहिनि॥

ज़िंदगी तर्सु, मतां तकिड़ो वञीं।
अञा सदमा तोखे सहिणा आहिनि॥

आउँ रातियुनि खे उजालो ॾींदडु़।
ॾींहं बाक़ी बचा थोरा आहिनि॥

कुछु त चउ, तोखे ग़लत समुझनि हीउ।
दोस्त पत्थर खणी, बीठा आहिनि॥

दोस्त जे दिल जे थियनि था वेझो।
से ई धक ज़ोर सां हणन्दा आहिनि॥

दूंहों दूंहों हो जॾहिं कुछु न कयुइ।
हाणे हर पासे ई शोला आहिनि॥

का त तरतीब ॾिबी तोखे हयात।
रस्ता तो झंग मां कढिणा आहिनि॥