भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शङ्का के अब पनि उसको / ज्ञानुवाकर पौडेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शङ्का के अब पनि उसको बयानमा होला
क्यै न क्यै दम त उसको अडानमा होला

पाइन्छ भने कतै किन्ने थिए म बरु आजै -
माया र सद्भाव भन्नुस् कुन दोकानमा होला

बोल्नू तर खूब होस पुर्‍याएर मात्र बोल्नू
बोल्दा खिलाफ त्यो कसैको सानमा होला

चुच्चोमा लिएर गुड उड्छौ किन हरदम आकाशमा
सुरक्षित जीवन तिम्रो के त्यस्तो उडानमा होला