भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शपथ गीत-2 / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर कमज़ोर इरादे की
मानी हुई दवा हैं हम
रोक सकेंगी क्या चट्टानें अल्हड़ मस्त हवा हैं हम ।

हम सपनों की नई बेल को,
उँगली पकड़ चढ़ाएँगे
सतरंगी फूलों को अपने
कन्धों पर बिठलाएँगे
देंगे छाँह उसी घर को जिस आँगन के बिरवा हैं हम ।
रोक सकेंगी क्या चट्टानें अल्हड़ मस्त हवा हैं हम ।।

हम सागर की लहरों
पर्वत के झरनों-से उजले हैं
छोटे हैं तो क्या लेकिन
हम साहस के पुतले हैं
अपनी हर लँगड़ी मजबूरी को देंगे गलवाहें हम ।
रोक सकेंगी क्या चट्टानें अल्हड़ मस्त हवा हैं हम ।