भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शब्द तुम..? / विजेंद्र एस विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शब्द तुम
कहाँ चले गए?
पता ही नहीं चला…
गायब हो गए
कहाँ,
आधी रात के बाद

कौन से दरवाज़े, जाने
खुलते हैं, तुम्हारे लिए
और,
किस घर में जाने
अब तुम दस्तक देते हो
तरह-तरह के स्वांग
रचाने लगे हो
कब तक यूँ ही, / छलते रहोगे मुझे तुम

अब तो मैं भी,
तुम्हारी उम्र का हो गया हूँ .