भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शब-ए-ग़म-ए-फ़ुर्क़त हमें क्या / मोमिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शब-ए-ग़म-ए-फ़ुर्क़त हमें क्या क्या मज़े दिखलाए था|
दम रुके था सीने में कम्बख़्त जी घबराए था|

बल बे अय्यारी अदू के आगे वो पैमान शिकन,
वादा-ए-वस्ल फिर करता था और शर्माए था|

सुन के मेरी मर्ग बोले मर गया अच्छा हुआ,
क्या बुरा लगता था जिस दम सामने आ जाए था|

बात शब को उस के मना-ए-बेक़रारी से बड़ी,
हम तो समझे और कुछ वो और कुछ समझाए था|

कोई दिन तो उस पे क्या तस्वीर का आलम रहा,
हर कोई हैरत का पुतला देख कर बन जाए था|

सू-ए-सहरा ले चले उस कू से मेरी नाश हाए,
था यही दर इन दिनों तलवा मेरा खुजलाए था|

हो गई दो रोज़ की उल्फ़त में क्या हालत अभी,
"मोमिन"-ए-वहशी को देखा इस तरफ़ से जाए था|