भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शरण-आधार / ईहातीत क्षण / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शरण देना या माँगना

किसी को बांधना

या किसी से बंधना है.

हमें अशरण और निराधार होना है.

अपना आधार आप होना है.

शरण आधार और स्वामी की परम्परा

यदि यूँ ही अनाहत रही ,

तो दासत्व की परम्परा का अंत कैसे होगा ?

वस्तु सब अपनी -अपनी हो जाएँ

तो कौन किसका स्वामी

और कौन किसका दास होता है ?

सर्वस्व यहाँ कौन किसका हुआ है,

या हो सकता है.

हम अपने ही सर्वस्व हो सकते हैं.

उसे कौन किसी से छीन सकता है.

हमें अपना आधार , अपनी शरण

अपना नाथ

अर्थात,

स्वयम नाथ होना है.

फ़िर कोई त्रिलोकी नाथ उसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकता है.