भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शराबी की सूक्तियाँ-1-10 / कृष्ण कल्पित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक

शराबी के लिए
हर रात
आख़िरी रात होती है.

शराबी की सुबह
हर रोज़
एक नई सुबह।

दो

हर शराबी कहता है
दूसरे शराबी से
कम पिया करो।

शराबी शराबी के
गले मिलकर रोता है।
शराबी शराबी के
गले मिलकर हँसता है।

तीन

शराबी कहता है
बात सुनो
ऐसी बात
फिर कहीं नहीं सुनोगे।

चार

शराब होगी जहाँ
वहाँ आसपास ही होगा
चना चबैना।

पाँच

शराबी कवि ने कहा
इस बार पुरस्कृत होगा
वह कवि
जो शराब नहीं पीता।

छह

समकालीन कवियों में
सबसे अच्छा शराबी कौन है?
समकालीन शराबियों में
सबसे अच्छा कवि कौन है?

सात

भिखारी को भीख मिल ही जाती है
शराबी को शराब।

आठ

मैं तुमसे प्यार करता हूँ

शराबी कहता है
रास्ते में हर मिलने वाले से।

नौ

शराबी कहता है
मैं शराबी नहीं हूँ

शराबी कहता है
मुझसे बेहतर कौन गा सकता है?

दस

शराबी की बात का विश्वास मत करना।
शराबी की बात का विश्वास करना।

शराबी से बुरा कौन है?
शराबी से अच्छा कौन है?