भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शव-1 / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नीचे सिर ..पीठ ऊपर... सामने है -
जल समाधि लिए साधु शव...

वैसी ही बँधी धोती
पानी में चलते पैर ।

उसकी साधना से ठहर गया है --
आस-पास का जल ।

क्या गुनता रहता है --
बिना आशा बिना भय ।

किसी दिन में नहीं रहूँगा --
तो जीवित हो जाएगा..... शव ।