भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शव-2 / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न अर्थी... न फूल... न दीया-बत्ती..
भीतर धरा है - शव !

सभी गली में मौन... संगी-साथी विहीन
दुख सेक कर खाता है, निथर... नीरव

मरना उसका यह है ...मर गया है निजी सपनो का उगना
विचार बुझाता है - आजकल रेत चूस कर ।

कही आता-जाता नहीं, जीभ हो गई है महाधीर --
ड्राईफ्रूट की तरह नाभि, बैठ गया है फास्फोरस का अस्थि-पंजर ।

टूटे दाँत अख़बार पढ़ता बड़बड़ाता है --
ऐसे भी क्या शव पड़ा रहता है ?