भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शहर के आकाश में / योशियुकी रिए

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: योशियुकी रिए  » शहर के आकाश में

शहर के आकाश में
लहरा रही है नन्हीं झंडी
आकाश में फड़फड़ा रही है

मैं धीरे से खाँसती हूँ
माँ की प्रेमपगी हथेली
मेरी पीठ सहलाती है
मेरी कमज़ोर-दिमाग छोटी बहन
सरिया लगी खिड़की पर आगे बढ़ आती है

शहर के आकाश में
लहरा रही है नन्हीं झंडी
तूफ़ान के ख़ात्मे का संदेश दे रही है
लगती है कुछ-कुछ टिड्डे की तरह

मूल जापानी से अनुवाद : रोली जैन