भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शहर में गोली हली, पोइ अलाए छा थियो! / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शहर में गोली हली, पोइ अलाए छा थियो!
ख़ल्क हिक पासे डुकी, पोइ अलाए छा थियो!!

हिक धमाके सां रोशनी सॼी मेरी थी वेई।
ओचितो धूड़ि उॾी, पोइ अलाए छा थियो!!

‘तूं छा, तूं छा’ खां पोइ हली गारि ऐं पोइ निकता छुरा!
तकिड़ो आयुसि मां हली, पोइ अलाए छा थियो!!

रस्ता ख़्वाबनि में घिटियूं निन्ड में ग़ल्तान हुयूं!
ओचितो चीख उथी, पोइ अलाए छा थियो!!

मंू भी को पलु ॾिठो रस्ते ते मरीज़नि, पंहिंजी
गाॾी ख़ुद ई थे धिकी, पोइ अलाए छा थियो!!

घर खां निकितो त हुउसि खेसि सिधी ॻाल्हि चवण।
दिल त हिम्मथ बि ॿधी, पोइ अलाए छा थियो!!

साणु सभिनी खे करे, क़ाफ़िलो हिकु थी, वधिजे
राइ सभिनी जी हुई, पोइ अलाए छा थियो!