भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शाम / निलिम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुस्तकालय में एक शाम मरी हुई है

जिस शाम ने कल
मृतक तारों की पहाड़ी पर खड़े होकर
दो बूँद खून मुझसे माँगा था

कल नहीं जानता था मैं
उस शाम, उस पहाड़ और शाम के रहस्य को

आज इन किताबों के बीच
एक शाम मरी हुई है

जिस शाम के नीचे
क्षण भर के लिए
जी उठती है वह पहाड़ी
और मेरी चेतना में मृत्यु