भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शायद मैं वह नहीं----/ सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रायः लोग
मुझे--
नैतिक मूल्यों की
रोगिणी कहते हैं......
ऐसा अनुभव होता है.....
मानों--
असंख्य कीड़े रेंग रहे हों
चाट रहें हों मेरे अहम् को.

न जाने क्यों लोग प्रायः
हँसते हैं.......
कहती हूँ जब
मैं भी इंसान हूँ.......
अपने साथ---
 न्याय करती हूँ.

कारण है शायद
अपने को आदर्शवाद का
पारदर्शी बाना पहना
धोखा नहीं देती......

हो सकता है--
मैं मिथ्या हूँ--
यह भी सम्भव है
मेरी आँखों में
वैसी चमक नहीं
जो की इन
तथाकथित
इंसानों में है.