भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-14 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग बरवा-ताल दादरा

गुइयां लहरै छै अंचरवा हमार
लहरै छै अंचरा हमार
कुहु कुहु बोलै छै कारी रे कोइलिया
चलै छै सनन सन पछिया बयरिया
पपिहा करै छै पुकार
सरसों नें पिन्हलॅ छै पियरी चुनरिया
फुलोॅ छै बगिया में बेलिया चमेलिया
गमकै छै ऐंगना दुआर
छोटकी ननद मोरी बारी कुमारी
हमरोॅ बलमुजी के बड़ी रे दुलारी
ननदी सें घर उजियार

राग मिश्र बरवा-ताल दादरा

चारे दिन फगुआ कॅ दैया नै अइलै रसिया संवरिया
मतिया मारलकै सौतिनियां ,, ,, ,, ,,
अमवां मोंजरी गेलै सरसों फुलैलै
कानी कानी काटैछी रतिया नै अइलै रसिया संवरिया
सूनी अटरिया सूनी सेजरिया
धड़ कै छै रहि रहि कॅ छतिया नै अइलै रसिया संवरिया
सोलह बरस के जुलमी उमिरिया
वितलै अकारथ जुअनियां नै अइलै रसिया संवरिया